नेट बैंकिंग में NEFT RTGS IMPS ECS क्या होता है : Neft Rtgs Imps Ecs Full Form - Neft Vs Rtgs in Hindi

नेट बैंकिंग में  NEFT RTGS IMPS ECS  क्या होता है : Neft Vs Rtgs  in Hindi – Neft Rtgs Imps Ecs Full Form


Neft Rtgs Imps Ecs antar kya hota hai


NEFT RTGS IMPS ECS  के बारे में पूरी जानकारी 

इन्टरनेटबैंकिंग एक इलेक्ट्रॉनिक (Electronic) Payment (भुगतान) करने का तरीका है, जिस के माध्यम से हम ऑनलाइन मनी/फंड्स ट्रान्सफर कर सकते हैं,इन्टरनेट बैंकिंग को net बैंकिंग, वेब बैंकिंग, और ऑनलाइन बैंकिंग भी कहते है| फंड्स ट्रान्सफर के साथ-साथ मूलभूत transactional कार्यकलाप(activity) जैसे (utility bills) यूटिलिटी बिल्स (इलेक्ट्रिसिटी बिल्स, टेलीफोन बिल्स, water बिल्स आदि) का ऑनलाइन भुगतान कर सकते हैं, बैंक अकाउंट में कितने पैसे शेष (balance) हैं, वह चेक करना, अपने transactions के details का अभिलेख (records) रखना इत्यादि | ऑनलाइन transactions के लिए net बैंकिंग बहुत ही सुरक्षित तरीका है|


Net बैंकिंग के द्वाराअलग-अलग होनी वाली ऑनलाइन transactions

Ø  NEFT (national electronic funds transfer) नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रान्सफर

Ø  RTGS (real Time Gross Settlement ) – रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट

Ø  IMPS (immediate payment system) इमीडियेट पेमेंट सिस्टम

Ø  ECS (electronic clearing system) - इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सिस्टम

 

1. NEFT– नेशनल इलेक्ट्रोनिक फंड्स ट्रान्सफर (National Electronic Funds Transfer kya hai)

सबसे पहले बात कर लेते है की NEFT क्या है ? और NEFT का full Form क्या है ? NEFT ( National Electronic Funds Transfer )  इलेक्ट्रानिकली (electronically) ऑनलाइन पैसे (funds) ट्रान्सफर करने का एक तरीका है| NEFT के माध्यम से कोई अकेला इंसान, कोई कंपनी, या कोई corporate एक बैंक अकाउंट से किसी दूसरे इंसान को,या कोई कंपनी के बैंक अकाउंट में पैसे ट्रान्सफर कर सकता हैं| NEFT के द्वारा पूरे देश में आप, एक बैंक ब्रांच से किसी अन्य बैंक ब्रांच में फंड्स/पैसे ट्रान्सफर कर सकते हो|


उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कि किसी व्यक्ति का खाता(account) SBI (State Bank Of India) के न्यू डेल्ही (New Delhi) स्थित ब्रांच में है और उस व्यक्ति को चन्नई के Axis बैंक ब्रांच में पैसे ट्रान्सफर करने है तो वह इंसान NEFT के ज़रिए आसानी से पैसे ट्रान्सफर कर सकता है|

 

NEFT से पैसे ट्रान्सफर करने के दो तरीके ?

दो तरीकों से NEFT के माध्यम से फंड्स ट्रान्सफर किए जा सकते हैं| पहला तरीका यह हो सकता है की आप अपने बैंक ब्रांच जाकर, NEFT आवेदन फॉर्म भरकर पैसे भेज सकते हैं/हो और दूसरा तरीका आप ऑनलाइन कर सकते हो सकते हो| नेट बैंकिंग ( Net Banking ) जैसे ऑनलाइन प्लेटफार्म पर आप NEFT से फंड्स ट्रान्सफर कर सकते हो|

 

क्या NEFT 24 घंटे काम करता है ? ( Neft Transfer Timing )

जहाँ पहले NEFT के सेवाएं(services) एक सीमित (limited) समय के लिए थी तो वहीं आज के समय में NEFT की सेवाओं(services) पर कोई पाबंदी नहीं है| वर्तमान में NEFT की सेवाओं को आप कहीं से भी, कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं | NEFT की सेवाएं 24x7  उपलब्ध हैं|

 

NEFT से पैसे ट्रान्सफर करने में कितना टाइम लगता है ?

NEFT द्वारा की गई transactions को सफलतापूर्वक ट्रान्सफर होने में कम से कम 30 min. का समय लगता है या हो सकता है ज्यादा भी लग जाए,क्योंकि NEFT की transactions batches (गुट) में पूरी की जाती हैं| मतलब की, एक या आधे घंटे में जितनी भी ऑनलाइन transactions NEFT द्वारा की जा रही है उन सब को एक बारी में इकट्ठा कर लिया जाता है, तो इस प्रकार उन सारी transactions का एक समूह/गुट(batch) बना लिया जाता है और फिर एक साथ सारी transactions को रिहाई(release) कर दी जाती हैं |


इसलिए अगर आप NEFT के माध्यम से transactions कर रहे हो तो तुरंत आपके पैसे ट्रान्सफर नहीं होते हैं, एक समय के बाद ही आपके पैसे ट्रान्सफर किए जाते हैं| NEFT एक समय प्रतिबंध सेवा(service) है, अगर आप बैंक ब्रांच जाकर पैसे ट्रान्सफर करते हो तो क्योंकि बैंक का भी काम करने का एक समय(working hour) होता है| बैंक का भी एक खुलने और बंद होने का समय होता है| लेकिन अगर आप ऑनलाइन NEFT से पेमेंट(पैसे) किसी क ट्रान्सफर करते है तो उसके लिए कोई समय प्रतिबंध नहीं हैं, ऑनलाइन यह सेवा 24x7 उपलब्ध है |

 

2. RTGS रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (Real Time Gross Settlement kya hai)

बात कर लेते है की RTGS क्या है ? और RTGS का full Form क्या है ? RTGS (Real Time Gross Settlement ) एक रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट इलेक्ट्रानिकली (electronically) ऑनलाइन पैसे (funds) ट्रान्सफर करने का एक तरीका है| अगर आपको कोई बड़ी रकम किसी को ट्रान्सफर करनी है तो RTGS जैसी सेवा आपके लिए उपलब्ध है|

 

RTGS कैसे काम करता है ?

RTGS की परिभाषा यह होती कि किसी भी अकेले इंसान, कंपनी, या कोई firm के पैसों के transactions को एक-एक करके लगातार निपटाया जाता है| जैसा NEFT में transactions batches में की जाती हैं और समय लगता है ट्रांजेक्सन को पूरा होने में तो वहीं RTGS में ऐसा कुछ नहीं होता | RTGS की full form से आप समझ सकते हो कि रियल(real) टाइम का मतलब तुरंत उसी समय कुछ काम होना और ग्रॉस सेटलमेंट से हमें यह मालूम पड़ता है कि, फंड्स / पैसों का भुगतान (settlement) होना, तो यानी की RTGS के माध्यम से आप किसी को भी रियल टाइम में पैसे ट्रान्सफर या कोई transaction कर सकते हैं |

 

 

RTGS से पैसे ट्रान्सफर होने मे कितना समय लगता है ?

RTGS के द्वारा अगर कोई व्यक्ति किसी को पैसे ट्रान्सफर कर रहा है तो पैसे प्राप्त करने वाले व्यक्ति को तुरंत उसके बैंक अकाउंट में पैसे पहुँच/मिल जाएंगे, receiver(आदाता) को प्रतीक्षा(wait) करने की ज़रूरत नहीं पड़ती है|

 

RTGS से कितना पैसा भेजा जा सकता है ?

RTGS को बड़ी रकम ट्रान्सफर करने के लिए बनाया गया है, कोई इंसान RTGS के द्वारा कम से कम 2 लाख रुपए किसी दूसरे व्यक्ति के खाते(account) में ट्रान्सफर कर सकता है | RTGS को RBI(reserve bank of India) द्वारा प्रक्षेपण(launch) किया गया था| और जितनी भी RTGS के माध्यम से की जाती हैं वह सब RBI की निगरानी में होती है यानी RBI ही सारी transactions को विनियमित(regulate) करता है| RBI  के दिशा-निर्देशों के मुताबिक हम RTGS के माध्यम से कम से कम 2 लाख और ज्यादा से ज्यादा कितने भी पैसे transfer(भेज) सकते हैं |

 

 लेकिन बहुत से बैंकों RTGS के द्वारा पैसे ट्रान्सफर करने के लिए एक सीमा(limit)set लगा रखी है जैसे 10लाख, 20लाख, 25लाख, इत्यादि, इसका मतलब यह हुआ की अगर कोई भी बैंक पैसे ट्रान्सफर करने की limit सेट करता है तो कोई भी व्यक्ति सेट किए गए रकम(amount) से ज्यादा पैसे ट्रान्सफर नहीं कर सकता |

 

क्या RTGS 24 घंटे काम करता है ? ( RTGS Transfer Timing )

ऑनलाइन आप कभी भी, किसी को भी, कहीं से भी RTGS के द्वारा किसी अन्य व्यक्ति के खाते में  पैसे ट्रान्सफर करते हो तो यह सेवा आपको 24x7 उपलब्ध रहेगी | तो वहीं अगर आप बैंक ब्रांच जा कर RTGS द्वारा पैसे ट्रान्सफर करते हो तो इसके लिए आपको बैंक के working days (कार्य वाले दिन) के कार्य के समय (working hours) जैसे की सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक के समय के बीच में ही transactions करनी होती है|


तो मेरी राय में बैंक जाने से बेहतर है कि आप ऑनलाइन वाले तरीके को चुनिए क्योंकि वह आसान और सुरक्षित तरीका है आपके पैसों को ट्रान्सफर करने का | शनिवार वाले दिन, बैंक में RTGS की सेवा(service) आधे समय के लिए ही उपलब्ध होती है, यानी सुबह 10 बजे से लेकर 1 बजे तक |


नोट : बहुत से बैंकों की टाइमिंग अलग-अलग हो सकती है तो उपभोक्ता बैंकों की टाइमिंग को ध्यान में रखें !

 



ये भी पढ़े >> बिना सिम के नेट चालू कैसे करें ?



3. IMPS इमीडियेट पेमेंट सिस्टम (immediate payment system kya hai)

बात करे की IMPS क्या है ? और IMPS का full Form क्या है ?  IMPS(Immediate Payment System)एक इमीडियेट पेमेंट सिस्टम है जिसके जरिए, पूरे देश में आप एक बैंक से किसी दूसरे अन्य बैंक में IMPS के द्वारा तत्काल/तुरंत इलेक्ट्रानिकली(electronically) पैसे ट्रान्सफर तथा accept(लेना) कर सकते हो, यह एक बहुत तेज़ तरीका है फंड्स ट्रान्सफर करने का |

 

IMPS से पैसे ट्रान्सफर के लिए

कई बार हमारे सामने ऐसी गंभीर स्थिति आ जाती है कि हमें किसी भी व्यक्ति को जल्दी या अति आवश्यक पैसे ट्रान्सफर करने होते हैं तो ऐसी परिस्थिति में आप imps के द्वारा जल्दी और सुरक्षित तरीके से पैसे ट्रान्सफर कर सकते हो | कोई अकेला व्यक्ति, कंपनी या कोई firm अपने किसी बैंक खाते से किसी अन्य दूसरे व्यक्ति, कंपनी या कोई firm के बैंक खाते में आसानी से रियल टाइम(समय) में पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं |किसी इंसान को एक बैंक से दूसरे बैंक में फण्ड ट्रान्सफर करने हो तो यह सेवा (service) बहुत ही आमतौर पर इस्तेमाल होती है | लाभार्थी(beneficiary) के एकमात्र फ़ोन नंबर से ही imps के माध्यम से आप उसको पैसे ट्रान्सफर कर सकते हो |

 

imps के द्वारा जितनी भी transactions की जाती हैं वह, National  Payments Corporation Of India(NPCI) {नेशनल पेमेंट कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया} की देख-रेख में होती है | सारी भुगतान(payments) का संचालन NPCI के द्वारा होता है| हम अपने मोबाइल फ़ोन, इन्टरनेट, और यहाँ तक ATM(Automated Teller Machine) के माध्यम से किसी को भी पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं, imps इन सभी भुगतान करने के तरीकों को सहयोग करता है |

 

imps के माध्यम से आप क्रेडिट कार्ड bills का भुगतान (payments) भी कर सकते हैं | imps पेमेंट सेवा (service) 24x7 उपलब्ध है, और ये ही नहीं, वर्ष के 365 दिन आप इस सेवा का लाभ उठा सकते हो| यहाँ तक की यह सेवा बैंक के छुट्टी वाले दिनों (bank holidays) में भी काम करती है| लेकिन imps के द्वारा आप सिर्फ ऑनलाइन ही भुगतान (payment) कर सकते हो, क्योंकि यह सेवा (service) केवल ऑनलाइन ही उपलब्ध है, आप बैंक ब्रांच जाकर किसी दूसरे व्यक्ति को imps के द्वारा पैसे ट्रान्सफर या स्वीकार (accept) नहीं कर सकते |

 

net बैंकिंग जैसे ऑनलाइन सेवाओं में आपको imps के द्वारा transactions करने का विकल्प मिल जाता है, और भी कई सारे वरणाधिकार(option) मौजूद हैं जैसे मोबाइल, इन्टरनेट,ATM और शोर्ट मेसेज सर्विस SMS(short message service) के माध्यम से, इत्यादि |RBI के मुताबिक RTGS के द्वारा आप कितना भी रकम(amount) लाभार्थी के खाते(account) में ट्रान्सफर कर सकते हैं लेकिन imps के मामले में पैसे ट्रान्सफर करने की एक सीमा(limit) लगाई गई है जो कहीं न कहीं उपभोक्ता(user) को एक कमी (drawback) नज़र आती है| क्योंकि imps के माध्यम से आप ज्यादा से ज्यादा 2 लाख ही ट्रान्सफर कर सकते हो| बहुत से बैंक imps के द्वारा करी गई transactions पर शुल्क(charge) वसूलते हैं, तो वहीं बहुत से बैंक कोई शुल्क नहीं लेता |आपको कुछ मामूली से शुल्क का भुगतान करना पड़ सकता है,यह बैंक टू बैंक पर निर्भर करता है कि कितना शुल्क लेना चाहिए |

 

 

4. ECS– इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सिस्टम(Electronic Clearing System kya hota hai)

जिस प्रकार NEFT, RTGS, IMPS, के माध्यम से आप कई तरह की transactions करते हो ठीक उसी प्रकार आप ECS के माध्यम से भी transactions को अंजाम दे सकते हो | ECS को आप एक विकल्पिक तौर पर इस्तेमाल कर सकते हो बहुत सारे ऑनलाइन transactions  के लिए, आप आपने utility bills (यूटिलिटी बिल्स) का भुगतान कर सकते हो, जैसे कि बिजली का बिल(electricity bills), टेलीफोन बिल (tele phone bills), बीमा प्रीमियम की किस्तें भरना, लोन(loan) का भुगतान, कार्ड का भुगतान, इत्यादि


ECS के माध्यम से कोई कंपनी,firm, financial institutes, govt department, या कोई अकेला व्यक्ति किसी दूसरे अन्य कंपनी, कारपोरेशन, या किसी अकेले व्यक्ति के खाते(bank account) में इलेक्ट्रानिकली (electronically) पैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं, और तो और ECS के द्वारा एक साथ आप एक से ज्यादा खातों(multiple account) में फंड्स ट्रान्सफर कर सकते होमतलब की ECS के माध्यम से आप एक बैंक खाते(bank account) से बहुत से अन्य बैंक खातों में पैसे ट्रान्सफर कर सकते हो| उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कि किसी कंपनी या कोई firm को अपने कर्मचारियों(employees) को एक साथ एक निर्धारित तारीख और समयपर तनख्वाह(salary) बाटनी(distribute) है तो वह कंपनी या firm अपने अकाउंट(account) से ECS के माध्यम से अपने सभी कर्मचारियों (employee) के बैंक अकाउंट में एक साथ इलेक्ट्रानिकली (electronically) तनख्वाह(salary) जमा करा सकती है |

 

ECS एक ऐसी सेवा (service) है जिसका इस्तेमाल जब किया जाता है तब एक साथ बहुत सारी भुगतान (payments), पैसों का ट्रान्सफर और अन्य बहुत-सी transactions का होना होता है | अगर हम बैंक की परिभाषा में ECS को समझे तो ESC एक ऐसी सेवा (service) जिसके माध्यम से या तो बहुत सारे व्यक्तियों के बैंक खातों में (bankaccount) पैसे ट्रान्सफर किए जाते हैं या निकाले जाते हैं | इसी के आधार पर ECS दो प्रकार/तरह (types) के होते हैं –

Ø  ECS Credit (ECS क्रेडिट)

Ø  ECS Debit (ECS डेबिट)

 

ECS Credit- ECS क्रेडिट के नाम से ही आपको यह समझ आ रहा होगा की किसी के बैंक खाते में कोई रकम/पैसे(amount) जमा करने हैं | यह एक एसी सेवा(service) है जिसके माध्यम से कोई कंपनी, कारपोरेशन, या कोई firm को किसी दूसरे अन्य बहुत सारे व्यक्तियों, कंपनियों या कोई firm के खातों(account) में एक साथ फंड्स payments(भुगतान) ट्रान्सफर करने हो |अभी ऊपर हमने उदाहरण के तौर पर यह समझा किकोई कंपनी अपने कर्मचारियों(employees) को ECS के माध्यम से तनख्वाह  (salary) प्रदान कर सकती है | सरकार द्वारा गैस सिलिंडर पर हर महीने दी जाने वाली सब्सिडी(subsidy) भी ECS के माध्यम से हर सब्सिडी पाने वाले व्यक्ति के खाते(account) में electronically अपने आप पैसे जमा कर दिए जाते हैं, यह भी ECS क्रेडिट का एक उदाहरण हो सकता है |

 

ECS debit- ESC डेबिट एक एसी सुविधा है जिसके द्वारा कोई बैंक, financial institute या कोई कंपनी किसी एक व्यक्ति या कोई कंपनी के खाते(bank account) से पैसे निकाल(deduct/debit) या काट लिए जाते हैं | उदाहरण के तौर पर हम बहुत से लोन (loan), बीमा, insurance policy, EMI पर मोबाइल फोन लेते हैं तो हर महीने नियमित एक निर्धारित समय पर हमारे बैंक खाते(bank account) से पैसे कटते रहते है जबतक की सारी किस्तें पूरी न हो जाए | इस तरह से हम यह समझ सकते हैं की ECS debit क्या होता है |

 

 

दोस्तों आज हमने जाना Net Banking के types हिंदी में और पूरी जानकरी जैसे NEFT क्या है ? कैसे काम करता है , NEFT से पैसे भेजने में कितना समय लगता है ( NEFT Full Form in hindi ) और कितना पैसा भेज सकते है NEFT Money Transfer काम कैसे करता है | RTGS क्या होता है ? और कैसे काम करता है , RTGS से पैसे भेजने में कितना समय लगता है और कितना भेज सकते है और RTGS Full Form in , RTGS Transfer काम कैसे करता है और फिर हमने जाना IMPS क्या होता है किस काम आता है ? I इमीडियेट पेमेंट सिस्टम काम कैसे करता है , IMPS से पैसे भेजने में कितना समय लगता है और किसको और कितन भेज सकते है कब इस्तेमाल में आत है  (IMPS Full Form in hindi ) और कितना पैसा भेज सकते है immediate payment system Money Transfer कैसे किया जाता है और इसके बाद हमने लास्ट में जाना  ECS क्या है ? ECS से पैसे भेजने में कितना समय लगता है ( ECS Full Form in hindi ) और कितना पैसा भेज सकते है electronic clearing system से पैसे कब भेजते है और कब काम में आता है | तो उमीद करता हु आपको समझ आ गया होगा कोई सवाल हो या कुछ पूछना हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है |

 

 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.