नेट बैंकिंग के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में : net bankig kaise karte hai – net banking kaise chalu kare

 

नेट बैंकिंग के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में : net bankig kaise karte hai – net banking kaise chalu kare


net bankinga kya hai kaise karte hai
नेट बैंकिंग कैसे चालू करे 

 

टॉपिक :

ü  नेट बैंकिंग क्या है ? ( net banking in hindi ) 

üनेट बैंकिंग कैसे करते है ( Net Banking kaise karte hai )

ü  ऑनलाइन बैंकिंग काम कैसे करती है? (how netbanking works in hindi )

ü  नेट बैंकिंग कैसे करे? ( net banking kaise kare )

üनेट बैंकिंग कैसे चालू करे ( Net banking kaise chalu kare )

ü  बैंक नेट बैंकिंग कैसे चालू करते है ? (how to activate net banking in india )

ü  नेट बैंकिंग के फायदे (Advantages of net banking in hindi)

ü  बैंकिंग के नुक्सान (Disadvantages of net banking in hindi )

 

 

नेट बैंकिंग के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में (how to use net banking in hindi )

एक समय था जब किसी दूर अपने से बात करनी हो तो चिट्ठियां लिखा करते थे, चिट्ठियों का चलन बहुत था, कहीं जाने के लिए टाँगे, बैल गाड़ी(bullock cart) का इस्तेमाल करते थे, लेकिन आज हम टेक्नोलॉजी से भरी दुनिया में जी रहें हैं, आज हमारे पास smart phones हैं, जो सन्देश चिट्ठियां दिनों में पहुंचती थी वही अब हम मोबाइल फोंस के जरिए मिनटों में किसी से भी बात कर सकते हैं,संदेश(message) या -मेल (email) कर सकते हैं, आज हमारे पास एक बेहतर यातायात(transport system) है, हवाई जहाज, पानी के जहाज, इत्यादि सुविधा है | ऐसा नहीं है की जो चीजें पहले हुआ करती थीं वह आज नहीं है बस इतना है की हम थोड़े विकसित(advanced) हो गए है, हमने अपनी ज़िन्दगी में कुछ नई चीजें जोड़ी है तो कुछ उन्नति(upgrade) की है | यह सब टेक्नोलॉजी की देन है,हर छोटी बड़ी चीज़ें टेक्नोलॉजी से जुड़ी हुई है| इंसानों ने अपने बीते कल को और बेहतर बनाने के लिए टेक्नोलॉजी में हमेशा बढ़ोतरी की है |


आज इंसान नई - नई ऊँचाइयों को छू रहा है| हम दिन की शुरुआत से लेकर दिन खत्म होने तक अपने आस-पास टेक्नोलॉजी से घिरे रहते है, टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते है, फिर चाहे वह ऑनलाइन कोई लेन-देन transaction(ट्रांजेक्शन)करना हो, ऑनलाइन कोई booking (बुकिंग) करनी हो, किसी restaurant(रेस्टोरेंट) या होटल में हो, कहीं travel करना हो, और तो और टेक्नोलॉजी की बदौलत ही इंसान ने चाँद पर कदम रखा है जो कह सकते है मानव जाती के लिए एक बहुत ही बड़ी उपलब्धि (achievement) है | भारत एक उभरता देश है, जिसने पूरी दुनिया में अपना नाम बनाया है | जहाँ दुनिया में मौजूद अन्य देश टेक्नोलॉजी में आगे बढ़ रहें है वहीं भारत भी digital और टेक्नोलॉजी की इस दौड़ में अपने कदम रख चूका है| India(इंडिया) में सरकार द्वारा उठाया गया एक ठोस फैसलानोट बंदी(demonetisation) जो आज से पहले कभीभारत में नहीं हुआ जिसकी वजह से कई बदलाव आए


कई सारे ऑनलाइन मंच(platform) उभरकर आए, बैंकिंग सेक्टर ने कई नई सुविधा शुरू कर दींनगद(cash) लेन-देन को ऑनलाइन digitally(डिजिटल) लेनदेन में बदलने की कोशिश हुई है| नगद(cash) से नगदीहीन(cashless) इंडिया की मुहिम है| बैंकिंग और टेक्नोलॉजी का भी एक नाता है,banks(बैंक्स) बहुत सेसेवाएं (services)मुहैया(provide) कराते हैं, जिनमें से नेट बैंकिंग (Net-banking) आज के समय में बहुत ही लोकप्रिय सर्विस साबित होती नज़र रही है|


नेट बैंकिंग (Net-banking ) ने बैंक से जुड़े बहुत से काम आसान, सरल कर दिए है जिसका बहुत लोग लाभ उठा रहें हैं| इंडिया जैसे देश में जहाँ बैंक का कोई काम पूरा होना मतलब जंग जीतने के बराबर है, जहाँ बैंक की लम्बी-लम्बी कतार में समय ख़राब होना एक आम बात है वहां netbanking जैसी सुविधा मिलना किसी के लिए भी एक राहत की बात है| छोटे मोटे कार्य(task) जैसे बैंक balance चेक करना, अपना बैंक अकाउंट अभिगम(access) करना, बैंक टुबैंक पैसेस्थानांतरण(transfer) करना, कोई ऑनलाइन पेमेंट करना


 कोई बिल का भुगतान करना, या ऑनलाइन कुछ खरीदना,और भी कई सारी अन्य सुविधाएँ हैं यह सब आप internet(इन्टरनेट) बैंकिंग के द्वारा कर सकते हैं| आपने कभी कभी तो इन्टरनेट बैंकिंग के बारे ज़रूर देखा होगा और आपके मन में ये सवाल तो उठा होगा की इन्टरनेट बैंकिंग होती क्या है ? इसे इस्तेमाल कैसे करते है? अगर आपने मन बना लिया है की मुझे इन्टरनेट बैंकिंग को एक बार tryकरना चाहिए, तो फिर आपके लिए यह ज़रूरी है कि आप पहले इन्टरनेट बैंकिंग को अच्छे से समझ लें| चलिए net बैंकिंग को विस्तार में समझते / जानते हैं

 

 

नेट बैंकिंग क्या है ? ( net banking in hindi )

Net बैंकिंग को और भी अन्य नामों से जाना जाता है जैसे इन्टरनेट बैंकिंग,e-बैंकिंग, ऑनलाइन बैंकिंग,web(वेब) बैंकिंग, और होम बैंकिंग | इन्टरनेट बैंकिंग के नाम में ही उसकी परिभाषा छुपी है, बैंक और वित्तीय संस्थान(financial institution) द्वारा दी गई एक ऐसी सुविधा जिसमें लोग बैंक सेवाएं (services) का उपयोग कर सकते है इन्टरनेट का इस्तेमाल करते हुए|इन्टरनेट बैंकिंग एक electronic(इलेक्ट्रोनिक) पेमेंट system है | बैंक्स की मूलभूत (basic transaction) सेवाएं (services) हम इन्टरनेट बैंकिंग की मदद से कर सकते है


 इसके लिए हमें बैंक्स के चक्कर काटने के भी ज़रूरत नहीं | net बैंकिंग का इस्तेमाल करने के लिए हमारे पास कोई इलेक्ट्रॉनिक device जैसे pc, लैपटॉप, टेबलेट, मोबाइल, smart phones आदि इनमें से कोई भी आपके पास हैऔर साथ में एक अच्छा इन्टरनेटसंपर्क (कनेक्शन) है तो आप कभी भी कहीं से भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं| funds (फंड्स/पैसे)स्थानांतरण (transfer) करना, ऑनलाइन बैंक की statement निकालना या चेक करना, ऑनलाइन बिल भरना..... इत्यादि यह सब सेवाएं (services) आप ऑनलाइन बैंकिंग की मदद से कर सकते है| इन्टरनेट बैंकिंग एक सुरक्षित और आसान तरीका है ऑनलाइन transactions करने का |

 

ऑनलाइन बैंकिंग काम कैसे करती है ? (how netbanking works in hindi )

·        यहाँ तक आपको इन्टरनेट बैंकिंग के बारे में एक बेसिक idea तो हो गया होगा, अब बात करते कि ऑनलाइन बैंकिंग काम कैसे करती है, इसके लिए किसी भी व्यक्ति का बैंक में या वित्तीय संस्थान(financial institution)में अकाउंट होना ज़रूरी है, जिसे हम कई बार बैंक अकाउंट भी कहते है|

·        आपके पास पहले से कोई बैंक अकाउंट है या आप नया अकाउंट ओपन करवाने जा रहें है तो उस वक़्त आप अपने बैंक ब्रांच (branch) से इन्टरनेट सर्विस को भी शुरू करवा सकते है|

·        बैंक ब्रांच से इन्टरनेट बैंकिंग के लिए successful पंजीकरण (registration) कराने के बाद बैंक आपको एक लॉग इन (login) id और पासवर्ड देता(provide) है| जिसकी मदद से आप ऑनलाइन बैंकिग के websites,पोर्टल (portal) पर लॉग इन कर के सर्विस का लाभ उठा सकते हो |

·        बदशरते अगर आप इन्टरनेट बैंकिंग को उपयोग में लाना चाहते हो तो उसके लिए आप के पास कोई इलेक्ट्रॉनिक यंत्र (device) जैसे pc, लैपटॉप, मोबाइल स्मार्ट-फ़ोन, टेबलेट आदि में से कोई होना चाहिए और एक बेहतर इन्टरनेट संयोजकता (connectivity)भी |

 

 

नेट बैंकिंग द्वारा क्या-क्या सेवाएं मिलती है? (net banking services list )

Net banking के द्वारा दी जाने वाली सुविधाएँ -

§  पैसे(money) या फंड्सट्रान्सफरकर सकते हैं

§  कोई चेक बुक एप्लाए /आर्डर कर सकते है

§  हम अपनी अकाउंट के statement चेक कर सकते है

§  बैंक balance चेक करना हुआ आसान

§  (Prepaid)प्रीपेड मोबाइल, DTH रिचार्ज कर सकते है

§  (Bills) बिल्सका भुगतान कर सकते हैं जैसे इलेक्ट्रिसिटी बिल, पानी(water) बिल, टेलीफोन बिल, आदि

§  FDयानी फिक्स्ड (fixed) अकाउंट ओपन/बंद कर सकते है

§  सामान्य बीमा(general insurance) खरीद सकते है

§  ऑनलाइन कोई टिकेट (ticket) बुक कर सकते है

§  NEFT(national electronic funds transfer- नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रान्सफर ) कर सकते है

§  RTGS(real time gross settlement- रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट)फंड्स transferred कर सकते है

§  IMPS(immediate payment service- इमीडियेट पेमेंट सर्विस) फंड्स transferred कर सकते है

§  अपने बैंक अकाउंट विवरण(account details) का प्रबंधन(manage) कर सकते है

§  व्यापारिक भुगतान(merchant payments) कर सकते है

§  कोई निवेश(investment) शुरू कर सकते है

§  Mortgages लोन चेक कर सकते है

 

बैंक नेट बैंकिंग कैसे चालू करते है? ( how to activate net banking in india ? )

दो तरीकों से net बैंकिंग पंजीकरण (registration) कर सकते है एक offline तो दूसरा ऑनलाइन

ऑफलाइन तरीका ( activate net banking offline ) :

Ø  आपको अपने बैंक ब्रांच में जाना होगा (visit) करना होगा

Ø  साथ में कुछ ज़रूरी दस्तावेज जैसे पैन कार्ड, आधार कार्ड,पासबुक आदि ज़रूर ले जाएं

Ø  ब्रांच से एक net बैंकिंग का आवेदन प्रपत्र (application form) लेकर उसे भर(fill) लें और प्रपत्र को सबमिट (submit) कर दें

Ø  आवेदन फॉर्म सबमिट होने के बाद बैंक आपकी details का verification (जांचना) करेगा

Ø  Successfully (सफलतापूर्वक) verification होने के बाद बैंक द्वारा आपको ऑनलाइन बैंकिंग के लिए एक लॉग इन id एंड पासवर्ड issue(जारी) कर दिया जाएगा

Ø  Id और पासवर्ड मिलने के बाद आप इन्टरनेट बैंकिंग पोर्टल पर लॉग इन कर सकते हो

Note: जब कभी आप पहली बार इन्टरनेट बैंकिंग में लॉग इन करें तो बैंक द्वारा दिए गए पासवर्ड को आप बदल (change)ज़रूर कर लें !

 

ऑनलाइन(online) तरीका

Ø  जिस बैंक की आपको इन्टरनेट बैंकिंग चाहिए उस बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट पर visit करें

Ø  पर्सनल (personal) या रिटेल (Retail) बैंकिंग के विकल्प (option) से लोग इन करें

Ø  जैसे ही आप रिटेल/पर्सनल बैंकिंग केऑप्शन पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक नया पेज खुल (open) जाएगा जहाँ पर आपको लॉग इन details फिल करने का आप्शन, न्यू यूजर, फॉर गॉट पासवर्ड जैसे कुछ options दिखाई देंगे उनमें से आपकोNew Userपर क्लिक करना है

Ø  अब आपको अपनी कुछ जानकारियां(details) भरनी होगी और फिर आगे बढ़ें( proceed) करें

Ø  आगे proceed करने के बाद जो अगले पेज आपके सामने ओपन होगा उसमें आपको एक OTP(one time password) फिल करना होगा जो बैंक से जुड़े मोबाइल नंबर(registered mobile number) पर आया होगा

Ø  इतना करने के बाद, अब अगले interface पर आपको अपने Debit- cum - ATM(automated teller machine) कार्ड की details देनी होगी जैसे कार्ड नंबर,समाप्ति तिथि (expiry date),पिन नंबर, कार्ड धारक का नाम. फिर आगे (proceed) बढ़ें

Ø  अगले interface पर आपको यूजर नाम, लॉग इन पासवर्ड generate(गंरेट) का आप्शन जाएगा, यहाँ आपको एक यूजर नाम और पासवर्ड बनाना होगा | यहाँ क्रिएट किए गए पासवर्ड एंड id से आप इन्टरनेट बैंकिंग के websites या पोर्टल पर लॉग इन कर सकेंगे

Ø  जैसे ही आप फाइनल सबमिट करेंगे आपका इन्टरनेट बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन successful दिखाएगा

Ø  इस तरीके से आप ऑनलाइन बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते है घर बैठे ही ऑनलाइन

 

नेट बैंकिंग में लॉग इन कैसे करें ( net banking kaise kare )

सफलतापूर्वक रजिस्ट्रेशन के बाद अब आप आसानी से net बैंकिंग के लिए लॉग इन कर सकते हैं

·        बैंक की शासकीय (official) वेबसाइट पर visit करें

·        इन्टरनेट बैंकिंग वाले अनुभाग (section) में आपको दो आप्शन दिखाई देंगे एक पर्सनल(personal) और दूसरा कॉर्पोरेट (corporate)

·        अगर आप कॉर्पोरेट (corporate) उपभोक्ता(user) है तो आपको कॉर्पोरेट आप्शन चुनना है और नहीं है तो केवल पर्सनलके आप्शन को चयन (select) कर लें

·        चयन करते ही अब आप अगले पेज पर जाएंगे जहाँ आपको यूजरनाम और पासवर्ड फिल करना होगा, id एंड पासवर्ड फिल कर लें

·        दिए गए कैप्चा कोड (captcha code) को भरें और लोग इन पर tap करें

·        लॉग इन पर tap करते ही आपके सामने इन्टरनेट बैंकिंग का interface खुल जाएगा

 

नेट बैंकिंग के फायदे (Advantages of net banking in hindi)

v  Convenience (सुविधा जनक) –हर कोई एक बेहतर सुविधा चाहता है और net बैंकिंग एक convenient method है ऑनलाइन transactions के लिए जैसे ऑनलाइन बिल पेमेंट करना, फंड्स या मनीtransfer करना आदि | अब आपको बैंकों की लम्बी-लम्बी लाइनों में खड़े होने की ज़रूरत नहीं क्यूंकि नेट बैंकिंग कोआप अपने घर, ऑफिस या आप कहीं पर भी हो वहीं से संचालित (operate) कर सकते हैं कुछ ही मिनटों में आपका काम बन सकता है, बस कुछ क्लिक्स की ही तो बात है!net बैंकिंग की सर्विस आपको दिन के पूरे 24 घंटे, सप्ताहों के सातों दिन और साल के 365 दिन उपलब्ध होती है |


v  User friendly (यूजरफ्रेंडली) – netबैंकिग बहुत ही यूजर फ्रेंडली है और हर कोई net बैंकिंग को आसानी से इस्तेमाल कर सकता है |


v  Time saving ( टाइम की बचत) – समय हर किसी के लिए बहुत ही कीमती होता है, बहुत से लोग अपने busy(व्यस्त) schedule में से समय(time) निकल कर कोई दूसरे काम के लिए अपना दिनचर्या सेट-अप करते है, ऐसे में कुछ transactions के लिए बैंक visit करना हमारा काफी समय बर्बाद कर देता है क्यूंकि बैंक में पहले से और भी कई customers मौजूद होते हैं, बैंक की लम्बी लाइनों में हमें खड़ा होना पद जाता है| एसी स्थिति में इन्टरनेट बैंकिंग आपके लिए बहुत ही मददगार(helpful) साबित हो सकती है| जो काम , transactions  हम बैंक के ब्रांच में जाकरकरते है वाही transactions हम net बैंकिंग के द्वारा भी कर सकते हैं| तो इन्टरनेट बैंकिंग से हम अपना कीमती समय बचा सकते हैं |


v  Easy to make payment (पेमेंट करना हुआ आसान) –net बैंकिंग के द्वारा हम बहुत से ऑनलाइन transactions, पेमेंट सरल तरीके से कर सकते है | utility bills जैसे इलेक्ट्रिसिटी बिल, टेलीफोन बिल, water बिल, गैस बिल आदि इन सब को net बैंकिंग की मदद से भुगतान कर सकते है| ऑनलाइन कोई टिकेट बुक करना, e-commerce वेबसाइट पर ऑनलाइन पे करना,इत्यादि यह सभी काम हम इन्टरनेट बैंकिंग से आसानी से कर सकते हैं |


v  Account transactions tracking (अकाउंट transactions ट्रैकिंग) – जब कभी भी हम बैंक के ब्रांच से कोई ऑनलाइन transaction करते है तो प्रूफ के तौर पर बैंक हमें acknowledge slip (प्राप्ति-स्वीकार पर्ची) प्रदान कर देते हैं और इसकी ज्यादा संभावना होती है कि वह पर्ची हम से कहीं गुम हो सकती है| लेकिन अगर कोई transaction हम net बैंकिंग द्वारा करते है तो हमारे पास अभिलेख (record) होता है, जितनी भी ऑनलाइन भुगतान(payments) हम करते है उसका भी अभिलेख (record) हमारे पास सेव होता है| सारी transactions और भुगतान का एक प्रूफ हमारे पास होता है जैसे की जिसको हम फण्डट्रान्सफर कर रहें है उसका नाम, अकाउंट नंबर, कितना amountट्रान्सफर किया गया, किस तारीख को, किस समय सब details हमारे पास होती हैं


v  इन्टरनेट बैंकिंग से हम basic transactions जैसे अकाउंट balance चेक करना, online payments करना, या मनीट्रान्सफर करना आदि कर सकते हैं |


v  इन्टरनेट बैंकिंग अत्यधिक (highly) सेव और सुरक्षित है |


v  इन्टरनेट बैंकिंग को हम अपने मोबाइल से भी संचालित (operate) कर या चला सकते हैं

 


ये भी पढ़े >> बिना सिम के नेट चालू कैसे करें ?




बैंकिंग के नुक्सान (Disadvantages of net banking in hindi ? )

v  Internet (इन्टरनेट) – आज की दुनिया में बिना इन्टरनेट के जीना नामुमकिन सा हो गया है क्यूंकि इन्टरनेट का हम हर जगह इस्तेमाल करते हैं, मोबाइल फ़ोन, कंप्यूटर, लैपटॉप आदि  ये सभी इन्टरनेट से जुड़ें हुए हैं, बिना किसी इन्टरनेट कनेक्टिविटी के हम इन devices का भरपूर इस्तेमाल नहीं कर सकते क्यूंकि आजकल सब कुछ ऑनलाइन हो गया है |  net बैंकिंग जैसी सुविधाओं के लिए एक अच्छा इन्टरनेट कनेक्शन होना बहुत ज़रूरी हो जाता है| कई बार हमारी बहुत से transactions फ़ैल हो जाते उनमें मुख्य कारण हमारा लो इन्टरनेट कनेक्टिविटी हो सकता है| कई बार हमारे इन्टरनेट कनेक्शन अच्छे होने के बावजूद भी transactions फ़ैल हो जाते, इसके पीछे का कारण बैंक सर्वर में कोई टेक्निकल बाधा आना हो सकता है, आखिरकार बैंक भी तो इन्टरनेट पर निर्भर हैं|


v  हो सकता है की शुरुआती(beginners) लोगों को ऑनलाइन बैंकिग इस्तेमाल करना मुश्किल लगे| क्यूंकि बहुत से ऐसे भी लोग हैं जो बैंकिंग क्षेत्र (field) की दुनिया में बिलकुल नए है जिनको ऑनलाइन बैंकिंग की कम जानकारी है, उन लोगों के लिए net बैंकिंग का इस्तेमाल करना एक बहुत ही मुश्किल task हो सकता है|


v  बैंकिंग से संबंधित जब भी बात होती है तो सबसे पहले हमारे दिमाग में सिक्यूरिटी, सेफ्टी जैसी चीज़ें क्लिक करती हैं और जहाँ बात net बैंकिंग की हो तो id और पासवर्ड को सेव रखना बहुत ही ज़रूरी होता है| हमें सख्ती से(strictly) यह सावधानी ज़रूर बरतनी चाहिए कि अपने id एंड पासवर्ड को किसी भी व्यक्ति के साथ साझा करें| ऑनलाइन सेफ्टी के लिए हर कुछ महीनो में अपने पासवर्ड को बदलते रहें |


v  धोखाधड़ी से सावधान रहेंधोखेबाज़ी, धोखाधड़ी हर जगह होती है उनसे सावधान रहना, और अक्लमंदी से काम लेना अपनी जिम्मेदारी होती | बहुत से लोग ऑनलाइन धोखाधड़ी के जाल में आसानी से चपेट में जाते हैं क्यूंकि की वह लोग बेहतरीन स्कीम, ईनाम, कैशबैक (Cashback), के लालच में आकर किसी भी अंजान (unknown) लिंक या ऐपमें अपनी बैंक से संबंधित (related) सारी details फिल कर देतें हैं |और आखिर कार होता क्या है थोड़े से लालच के चक्कर में हम अपने पैसे, मनी, बैंक की जानकारी सब दाव पर लगा देते हैं | तो कभी भी किसी अंजान लिंक या call पर विश्वास करें चाहें वह आपको कितना भी आश्वासन दें क्यूंकि अपनी सिक्यूरिटी और सेफ्टी अपने हाथ में होती है |


v  ऑनलाइन transactions के लिए बैंक हमें सुरक्षा(cyber security)provideकरते हैं लेकिन कहीं कहीं हमारे मन में हिचकिचाहट, डर या यह आशंका रहती है की कहीं transaction फ़ैल हो जाए और सबसे ज्यादा डर ऑनलाइन हमें हैकर से होता हैं क्यूंकि हैकर हमारा डाटा ही चोरी कर लेते हैं जिसकी की वजह से हमें बहुत परेशानियां उठानी पड़सकती हैं | तो hackers भी ऑनलाइन बैंकिंग या ऑनलाइन कुछ भी करने के लिए एक बहुत ही बड़ा खतरा हैं |

 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.