PMEGP SCHEME क्या है ? - pmegp loan details in hindi

 PMEGP SCHEME की पूरी जानकारी  ? pmegp loan details in hindi 

pmegp loan details in hindi

PMEGP स्कीम की फुल फॉर्म हैप्रधानमंत्री एम्प्लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम  जिसका हिंदी में अनुवाद किया जाए तो यहप्रधानमंत्री रोजगार सर्जन कार्यक्रमयोजना कहलाया जाएगा | PMEGP योजना भारत सरकार द्वारा लौंच की गई है और यह योजना एक क्रेडिट बेस्ड सब्सिडी लिंक्ड सिस्टम पर आधारित है | क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी का अर्थ  है की इस योजना के अंतर्गत मिलने वाले लोन के लिए आपको कुछ क्रेडिट पॉइंट को पार करना होता है, उसी के बाद ही आप लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं | जैसे की लोन के लिए आवेदन करते वक़्त आपकी उम्र कितनी है उसके  लिए कुछ क्रेडिट पॉइंट रखे गए है और अलग-अलग उम्र के ग्रुप के लिए अलग क्रेडिट पॉइंट सेट किए गए हैं, आप कितने शिक्षित हैं जैसे की ग्रेजुएट, 12th पास, 10th पास, या उससे भी कम, इन सभी के लिए अलग-अलग स्कोर पॉइंट सेट किए गए हैं | ऐसे ही और भी मापदंडों के लिए अलग-अलग स्कोर पॉइंट सेट किए गए हैं जिन्हें आपको लोन के लिए आवेदन फॉर्म भरते वक़्त चयन करना होता है | और सब्सिडी का मतलब है की सरकार आपको लोन राशि का कुछ प्रतिशत सब्सिडी के तौर पर लोनधारक को वापस कर दिया जाता है |

 

PMEGP लोन स्कीम दो प्रकार की योजनाओं का एक समावेश हैं यानि की अतीत 2008 में दो योजनाएं लागु थी जिनका नाम हैप्रधानमंत्री रोजगार योजना” (PMRY) और रूरल एम्प्लॉयमेंट जनरेशन प्रग्राम” (REGP), इन्हीं दोनों योजनाओं को मिलकरप्रधानमंत्री एम्प्लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम” (PMEGP) योजना बनाई गई है | इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह है की, ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में इन छोटे-लघु उद्योग के माध्यम से रोजगार के अवसर उत्पन्न किए जा सकें | PMEGP योजना, मिनिस्ट्री ऑफ़ माइक्रो, स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेस (MoMSME) के द्वारा प्रबंधित की जाती है | राष्ट्रिय स्थर पर PMEGP योजना को खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज कमीशन (KVIC) के द्वारा नियंतरण किया जाता है और यह KVIC बॉडी मिनिस्ट्री ऑफ़ माइक्रो, स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेस के अंतर्गत आती है |

और राज्य स्थर पर इस योजना को खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज बोर्ड (KVIB) के द्वारा प्रबंधित किया जाता है | और साथ ही में अगर जिला स्थर पर दिखा जाए तो यह, डिस्ट्रिक्ट इंडस्ट्रीज सेंटर्स (DIC) के द्वारा नियंतरण किया जाता है  | PMEGP स्कीम की अंतर्गत दी जाने वाली सब्सिडी (subsidy) को KVIC बॉडी द्वारा व्यवसायी या लाभार्थी के बैंक खातों में, बैंकों के माध्यम से ट्रान्सफर कर दी जाती है |

 

PMEGP स्कीम का उद्देश्य -

      प्रधानमंत्री एम्प्लॉयमेंट जनरेशन प्रग्राम का मुख्य उधेश्य यही है की देश के ग्रामीण और शहरी इलाकों में छोटे-लघु उद्योग, प्रोजेक्ट्स आदि के माध्यम से रोजगार के अवसर उत्पन्न किए जा सकें |

      देश के बहुत से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूद बेरोजगार युवाओं को एक सतत और टिकाऊ रोजगार प्रदान किया जा सके |

      अपने शहरों और गाँव में रोजगार के अवसर उत्पन्न और मौजूद होने से लोग अपने क्षेत्रों में ही काम करेंगे |

      बहुत से ग्रामीण क्षेत्र के लोग काम की तलाश में शहरी क्षेत्रों में माइग्रेट (migrate) करते हैं तो इस योजना से उत्पन्न होने वाले रोजगार के माध्यम से सरकार का यह उद्देश्य है की वह इस माइग्रेशन को रोक सकें |

      कारीगरों की आय बढ़ सके और साथ ही में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों में वृद्धि हो सके |

      इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह भी है की स्वरोजगार के अवसर (self-employment) उत्पन्न हो सके ताकि लोग जहाँ पर है वहीं से व्यापर, रोजगार कर सकें | 


 

लोन funding और subsidy क्या है ?

यहाँ नीचे प्रदान की गई जानकारी अलग-अलग मापदंड पर निर्भर करती है जैसे की आप कहाँ के निवासी हैं (ग्रामीण या शहरी क्षेत्र) और आप कौनसी श्रेणी से संबंधित हैं | इस योजना के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली सब्सिडी और फंडिंग में मिलने वाली छुट नीचे दिए गए फैक्टर पर निभर करते हैं -

 

रेट ऑफ़ सब्सिडी (rate of subsidy Kya hai) -

 

1.    शहरी क्षेत्र (urban area)

अगर आप अर्बन क्षेत्र के निवासी हैं और आम श्रेणी (जनरल केटेगरी) से बेलोंग करते हैं तो आपको 15% तक की सब्सिडी प्रदान की जाएगी | और यदि आप विशेष श्रेणी (स्पेशल केटेगरी) जैसे की sc/st/obc / माइनॉरिटी/ वोमेन (women)/ एक्स-सेर्विसमन, शारीरिक रूप से विकलांग, हिल (hill) और बॉर्डर एरिया आदि से बेलोंग करते हैं तो आपको 25% तक सब्सिडी दी जाएगी |

 

2.   ग्रामीण क्षेत्र (rural area)

अगर आप ग्रामीण क्षेत्र के निवासी हैं और आम श्रेणी (जनरल केटेगरी) से बेलोंग करते हैं तो आपको 25% तक की सब्सिडी प्रदान की जाएगी | और यदि आप विशेष श्रेणी (स्पेशल केटेगरी) जैसे की sc / st /obc आदि श्रेणी से बेलोंग करते हैं तो आपको 35% तक की सब्सिडी दी जाएगी |

 

3.   लोन फंडिंग (loan funding)-

इस फैक्टर में केवल श्रेणी (आम श्रेणी या विशेष श्रेणी) मायने रखती है यानि की आप किस श्रेणी से बेलोंग करते हैं यह महत्वपूर्ण है | यहाँ पर आप किस क्षेत्र (ग्रामीण और शहर) के निवासी हैं यह मायने नहीं रखता |      

अगर आप आम श्रेणी (जनरल केटेगरी) से बेलोंग करते हैं तो, लोन राशि का 10% आपको भुगतान करना होगा और बाकि बचा शेष बैंक द्वारा आपको लोन के रूप में प्रदान कर दिया जाएगा |

और यदि आप वेशेष श्रेणी (स्पेशल केटेगरी) से बेलोंग करते हैं तो, लोन राशि का 5% आपको भुगतान करना होगा और बाकि का बचा हुआ शेष अमाउंट बैंक द्वारा आपको लोन के रूप में प्रदान कर दिया जाएगा |

 

PMEGP स्कीम के अंतर्गत आपको दो प्रकार के लोन प्रदान किए जाते हैं | अगर कोई व्यक्ति मैन्युफैक्चरिंग यूनिट (manufacturing unit / plant) स्थापित करना चाहता है तो, अधिकतम लागत जो आपके प्रोजेक्ट के लिए प्रदान किया जाएगा वह 25 लाख रुपए है | उदाहरण के लिए मान लीजिए अगर आप कोई मशीनरी सेट-उप करना चाहते हैं जो की किसी प्रोडक्ट का उत्पाद करेगी तो आपको इस योजना के अंतर्गत अपने इस प्रोजेक्ट के लिए अधिकतम 25 लाख रुपए तक का लोन मिल सकता है | 

और यदि आप किसी प्रकार का बिज़नस या सर्विस सेक्टर जैसा कोई विकल्प चुनते हैं तो, अधिकतम लागत जो आपके प्रोजेक्ट/ यूनिट के लिए प्रदान किया जाएगा वह 10 लाख रुपए हैं | उदाहरण के तौर पर मान लीजिए की कोई व्यक्ति किसी प्रकार का बिज़नस करना चाहता है या किसी प्रकार की सर्विस प्रदान करना चाहता है जैसे की सैलून, पार्लर आदि प्रकार के बिज़नस प्रोजेक्ट के लिए उस व्यक्ति को अधिकतम 10 लाख रुपए तक का लोन मिल सकता है |

 

पात्रता मापदंड (eligibility criteria) - 

      कोई भी व्यक्तिगत व्यक्ति (individual person) जिसकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है, वह इस योजना  के लिए योग्य है |

      अगर आपका मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के लिए प्रोजेक्ट कोस्ट 10 लाख रुपए से अधिक है और अगर किसी बिज़नस या सर्विस सेक्टर के लिए प्रोजेक्ट कोस्ट 5 लाख रुपए से अधिक है तो आपका शैक्षणिक योग्यता कम से कम आंठ्वी पास (8th pass) होना ज़रूरी है |

      यह योजना केवल नए बिज़नस प्रोजेक्ट के लिए ही उपलब्ध है | यदि आपका पहले से कोई बिज़नस मौजूद है और आप चाहते हैं की PMEGP स्कीम की मदद से बिज़नस को आगे बढ़ाया जाए तो वह आप नहीं कर सकते हैं, यानि की उसके लिए यह योजना उपलब्ध नहीं हैं |

      अगर आप किसी ग्रुप में मिलकर कोई बिज़नस सेट-उप करना चाहते हैं तो उनके लिए भी यह योजना उपलब्ध है यानि की वह भी लोन के लिए योग्य हैं |   






एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.